प. बंगाल में दो चरणों का चुनाव संपन्न हो चुका है जिनमें बीजेपी भारी बहुमत से जीतने का दम भर रही है। गृहमंत्री अमित शाह ने तो यह बात प्रेसवार्ता के दौरान कही कि प. बंगाल में बीजेपी की सरकार बनने जा रही है। प. बंगाल फतेह करने के लिये बीजेपी ने साम दाम दंड भेद सभी नीतियों का उपयोग किया है। चुनाव के ठीक पहले पूर्व टीएमसी नेता मिथुन चक्रवर्ती को भाजपा ने शामिल कर साफ कर दिया कि वो सत्ता पाने के लिये किसी हद तक जा सकते है। वैसे तो मिथुन चक्रवती एक समय भारतीय फिल्म के चमकते सितारे हुआ करते थे। लेकिन पिछल काफी सालों से वो राजनीति में सक्रिय नहीं थे। भाजपा ने उनकी लोकप्रियता को भुनाने के लिये मिथुन को पार्टी शामिल कर लिया। इससे प्रदेश में भाजपा की पैठ मजबूत होगी।
इसी कड़ी में भाजपा ने रामायण धारावाहिक में श्रीराम का लोकप्रिय किरदार निभाने वाले फिल्म व टीवी के कलाकार अरुण गोविल को भाजपा में शामिल कर लिया। अरुण गोविल को भाजपा प. बंगाल के विधानसभा चुनावों में इस्तेमाल करना चाहती है। लेकिन दो चरणों के चुनाव में अभी तक गोविल को चुनाव प्रचार में नहीं लगाया है। अगले छह चरण में भाजपा रामायण के श्रीराम उर्फ अरुण गोविल का चुनाव प्रचार में इस्तेमाल किया जाएगा।
मिथुन दा को तो दूसरे चरण के चुनावों में भाजपा ने उतारा है देखना यह है कि मिथुन भाजपस के लिये कितने फायदेमंद साबित होते हैं। वैसा ही कुछ हाल अरुण गोविल का है भाजपा की नैया में सवार हो कर क्या करामात दिखा पायेंगे। वैसे भी बाॅलिवुड में अब उनके लिये कुछ करने के लिये नहीं बचा है।
अगर दोनों ही ऐक्टर भाजपा की सरकार बंगाल में बनवाने में फ्लाप हुए तो इनकी भी हालत लौटे बाराती सी होगी। इनसे पहले भी धर्मेंद्र, हेमा मालिनी, विनोद खन्ना, सनी द्योल, रवि किशन, मनोज तिवारी, शत्रुघ्न सिन्हा, अमिताभ बच्चन, जया प्रदा और जया बच्चन राजनीति में प्रवेश किया है। लेकिन कुछ लोग तो अभी भी सक्रिय हैं तो कुछ लोग गुमनामी की जिंदगी जीने को मजबूर है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here