नई दिल्लीः केंद्र ने कोविन हैक किए जाने के बारे में मीडिया में आई खबरों को गुरुवार को खारिज कर दिया और कहा कि ये खबरें फर्जी प्रतीत होती हैं. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने एक बयान जारी कर कहा कि पोर्टल सुरक्षित डिजिटल वातावरण में सभी टीकाकरण डेटा संग्रहीत करता है.

कंप्यूटर इमरजेंसी रिस्पांस टीम कर रही जांच

बयान में कहा गया है कि मंत्रालय और टीकाकरण पर अधिकार प्राप्त समूह (ईजीवीएसी) इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय की ‘कंप्यूटर इमरजेंसी रिस्पांस’ टीम से मामले की जांच करवा रहे हैं. समूह (कोविन) के प्रमुख डॉ आर एस शर्मा ने स्पष्ट किया है कि कोविन को कथित रूप से हैक किए जाने को लेकर सोशल मीडिया पर साझा की जा रही खबरों पर सरकार का ध्यान गया है और जिस डेटा लीक होने का दावा किया जा रहा है, वह कोविन पर संग्रहीत ही नहीं था.

दी गई 24 करोड़ से ज्यादा खुराक

बता दें कि अभी तक कुल 24 करोड़ 27 लाख 26 हजार 693 कोरोना वैक्सीन की डोज दी चुकी है. इसमें 19 करोड़ 54 लाख 82 हजार 945 लोगों को कोरोना वैक्सीन की पहली डोज दी गई है. वहीं 4 करोड़ 72 लाख 43 हजार 748 लोगों को दूसरी कोरोना खुराक मिल गई है. बीते 24 घंटे के दौरान 33 लाख 79 हजार 261 कोरोना खुराक दी गई हैं.

इसे भी पढ़ेंः
छात्रों ने लगावाया चीन का कोराना टीका, फिर भी नहीं मिल पाया वहां का वीजा- केन्द्र सरकार

 

 

नेपाल में जारी राजनीतिक संकट के बीच PM केपी ओली ने फिर किया अपने कैबिनेट विस्तार

 



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here