उतार-चढ़ाव भरे कारोबार में बीएसई सेंसेक्स आज दिन के अपने उच्च स्तर 50,118.08 से 371.87 अंक गिरकर 84 अंकों की बढ़त के साथ 49,746.21 पर बंद हुआ।  देश में कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामले तथा इसकी रोकथाम के लिए देश के कई भागों में लगाई गई पाबंदियों के कारण निवेशक सतर्क रुख अपना रहे हैं। 30 शेयरों पर आधारित बीएसई सेंसेक्स 84.45 अंक यानी 0.17 फीसद की बढ़त के साथ 49,746.21 पर बंद हुआ।

यह भी पढ़ें: अपने निवेशकों को मुनाफा कमवाने वाले आज के ये टॉप-10 शेयर

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 54.75 अंक यानी 0.37 फीसद की बढ़त के साथ 14,873.80 अंक पर बंद हुआ। वहीं एशिया के अन्य बाजारों में शंघाई, हांगकांग और सोल बढ़त के साथ बंद हुए जबकि तोक्यो में गिरावट रही। यूरोपीय बाजार शुरूआती कारोबार में लाभ में रहे। इस बीच, वैश्विक तेल मानक ब्रेंट क्रूड 0.44 फीसद की गिरावट के साथ 62.88 डॉलर प्रति बैरल पर आ गया।

सेंसेक्स में अल्ट्राटेक सीमेंट की बल्ले-बल्ले

सेंसेक्स के शेयरों में सर्वाधिक लाभ में अल्ट्राटेक सीमेंट रहा। इसमें 4 फीसद से अधिक की तेजी आयी। इसके अलावा, टाइटन, टेक महिंद्रा, नेस्ले इंडिया, टीसीएस, बजाज फिनसर्व और एल एंड टी में भी अच्छी तेजी रही।  दूसरी तरफ, जिन शेयरों में गिरावट दर्ज की गयी, उनमें इंडसइंड बैंक, ओएनजीसी, सन फार्मा, एचडीएफसी बैंक तथा एक्सिस बैंक शामिल हैं।

दोपहर कारोबार में बैंक शेयरों में बिकवाली

रिलायंस सिक्योरिटीज के रणनीति मामलों के प्रमुख विनोद मोदी ने कहा कि घरेलू शेयर बाजारों में कारोबार के दौरान ज्यादातर समय तेजी रही, लेकिन बाद में तेजी कम हुई। कोविड-19 के बढ़ते मामले निवेशकों की धारणा को प्रभावित कर रहे हैं। वित्तीय कंपनियों के शेयरों में मुनाफवसूली से गिरावट आयी। दूसरी तरफ, जिन शेयरों में गिरावट दर्ज की गयी, उनमें इंडसइंड बैंक, ओएनजीसी, सन फार्मा, एचडीएफसी बैंक तथा एक्सिस बैंक शामिल हैं। इनमें 1.07 प्रतिशत तक की गिरावट आयी। जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा, ”घरेलू बाजार में तेजी जारी है। इसे मौद्रिक नीति में नरम रुख से समर्थन मिला। हालांकि दोपहर कारोबार में बैंक शेयरों में बिकवाली के कारण इसमें कुछ सुधार देखने को मिला।

जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा, ”घरेलू बाजार में तेजी जारी है। इसे मौद्रिक नीति में नरम रुख से समर्थन मिला। हालांकि दोपहर कारोबार में बैंक शेयरों में बिकवाली के कारण इसमें कुछ सुधार देखने को मिला।   उन्होंने कहा, ”धातु कंपनियों के शेयरों ने क्षेत्र के अन्य शेयरों की तेजी की अगुवाई की। स्टील के दाम और उत्पादन में तेजी से इसे समर्थन मिला। चौथी तिमाही के परिणाम का समय शुरू हो गया है और बाजार आने वाले दिनों में शेयर केंद्रित तेजी की उम्मीद कर रहा है….।

आईटी कंपनियों के शेयरों ने थामी गिरावट

उन्होंने कहा, ”वित्त वर्ष 2020-21 की चौथी तिमाही में कंपनियों की आय बेहतर रहने की उम्मीद तथा डॉलर के मुकाबले रुपये की विनिमय दर में गिरावट से निवेशक आईटी कंपनियों के शेयरों की ओर आकर्षित हो रहे हैं।मोदी ने कहा कि हाल में बांड प्रतिफल नरम होने तथा कच्चे तेल के दाम में गिरावट से बाजार को कुछ सहारा मिला है, लेकिन रुपये की विनिमय दर में गिरावट निवेशकों के लिए चिंता का कारण हो सकती है। इसका एफपीआई प्रवाह पर भी असर पड़ सकता है।

 



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here