#W.bengal#BJP#Bjpmla’s#TMC#MamtaBanerjee#Muklroy#Rajeevbanerjee#PMmodi#

दो मई को प बंगाल विधानसभा के चुनाव परिणाम आये। और उसी दिन तय हो गया कि प्रदेश में तीसरी बार ममता बनर्जी सीएम बनने जा रही हैं। टीएमसी की ऐतिहासिक जीत से सभी राजनीतिक दलों सांप सूघ गया। खासतौर से बीजेपी के तो होश ही उड़ गये। पीएम मोदी, अमित शाह, जेपी नड्डा ने तो सार्वजनिक रूप से चुनाव प्रचार के दौरान गला फाड़ फाड़ कर कहा था कि अब के बार दो सौ के पार, दो मई दीदी गयी। लेकिन दो मई को आये चुनाव परिणाम ने मोदी सरकार और बीजेपी के पैरों तले जमीन खिसक गयी। दीदी की शानदार जीत ने बीजेपी में गये टीएमसी नेताओ के सारे समीकरण ही बदल दिये हैं। उन्हें इस बात की पूरी उम्मीद थी कि भाजपा की सरकार जरूर बनेगी। लेकिन ममता दीदी की जीत ने उनकी उम्मीद पर पानी फेर दिया है।

सबसे ज्यादा तो उन बीजेपी नेताओं के तोते उड़ गये जो चुनाव से कुछ समय पहले टीएमसी छोड़ कर भाजपा में शामिल हुए थे। उनकी हालत घर का कुत्ता न घर का न घाट का जैसी हो गयी है। उनको न तो माया मिली न राम। अब चुनाव परिणाम सामने आते ही उनकी हालत जल बिन मछली जैसी हो गयी है। न वो लोग भाजपा को पूरी तरह अपना पा रहे हैं और न ही वो टीएमसी से पूरी तरह मोह त्याग सके हैं। लगभग 3 दर्जन भाजपा नेता टीएमसी में वापसी का मौका तलाश रहे हैं। इनमें सरला मुर्मू, पूर्व विधायक सोनाली गुहा समेत अनेक नेता तो खुलेआम बीजेपी छोड़ने का मन बना लिया है। टीएमसी नेता सुखेंदु राॅय ने कहा कि जिस तरह भाजपा विधायकों में ममता की शरण में जाने को भगदड़ मची है। लेकिन अब गेंद टीएमसी के पाले में है। पार्टी इस बात पर गौर करेगी कि पार्टी छोड़ कर भाजपा में शामिल होने वाले नेताओं को किस लिये शामिल करे पार्टी में उन्हें कहां एडजस्ट करे। उनकी पार्टी में क्या उपियोगिता है। क्या उन कार्यकर्ताओं पर घर वापसी का प्रभाव पड़ेगा जो बुरे वक्त में पार्टी के साथ खड़े रहे।
सबसे बड़ा नाम तो राजीव बनर्जी और बीजेपी उपाध्यक्ष मुकुल राॅय हैं। राय की पत्नी कोलकाता में कोरोना से पीड़ित है और उनका इलाज चल रहा है। राॅय के बेटे शुभ्रंाशु राॅय ने सोशल मीडिया पर यह कहा कि बीजेपी को इस बात पर मंथन करना चाहिये न कि चुनी हुई सरकार पर हमले करने में। यह भी सुनने में आया है कि मुकुल राॅय की बीमार पत्नी को देखने ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी पहुंचे और हालचाल जानें। इसी बात से यह अंदाजा लगाया जा रहा है कि शुभ्रांशु राॅय टीएमसी में वापसी की मंशा रख रहे है। इसी आशंका के बीच स्वयं पीएम मोदी ने मुकुल राॅय को फोन कर उनके मन की बात जानने की कोशिश की। लेकिन भाजपा नेता ने ऐसा कुछ भी होने की आशंका से इनकार किया है।
दूसरी ओर ममता दीदी सरकार प्रचंड बहुमत में है। किसी के समर्थन की जरूरत नहीं है। लगभग 3 दर्जन विधायकों की घर वापसी पर आखिरी निर्णय पार्टी की बैठक में होगा कि कहीं इस बहाने बीजेपी घुसपैठ का इरादा तो नहीं कर रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here