-rahul-priyanka
Rahul Gandhi And Priyanka at Ahamadabad

विनय गोयल
नयी दिल्ली। पिछले लगभग पांच सालों से पीएम मोदी अपने लच्छेदार भाषण और तीखे हमलों से कांग्रेस को नीचा दिखाते रह हैं। वैसे तो राहुल गांधी ने भी अपने मोदी और सरकार को अपने तीखे हमलों से परेशानी पैदा है। लेकिन मोदी अपने इरादों में ज्यादा सफल रहे हैं। मोदी भाषण देते समय सामने बैठी आम जनता को सीधा जोड़ लेते हैं। सामने वालों को ऐसा सम्मोहित करने की कला उन्हें आती है। लेकिन कांग्रेस ने यह दावा किया है कि वो बीजेपी की ओर उछाले गये भावनात्मक मुद्दों में फंसने के बजाये जनता को उन मुद्दों से जोड़ने की कोशिश करेगी जो हकीकत में जनता को प्रभावित करते हैं।
राहुल गांधी ने भी संकेत दिये हैं कि उनकी पार्टी गैर जरूरी मुद्दों पर बहस करने की जगह लोकसभा चुनाव आर्थिक मुद्दों पर चुनाव लड़ेगी। इन मुद्दों ने मिनिमम इनकम गारंटी योजना, कृषि ऋण माफी योजना, रोजगार, नोटबदी और जीएसटी को गलत तरह से लागू करने को शामिल करेगी। कांगे्रस महासचिव प्रियंका गांधी ने पहली बार पार्टी कार्यकारिणी की बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि आगामी आम चुनाव उतना ही अहम् जितना कि आजादी की लड़ाई थी। जनता को उन सभी समस्याओं को याद रखते हुए मतदान करना होगा। भाजपा और मोदी सरका फर्जी राष्ट्रवाद, पाक पर हवाई हमले और सांप्रदायिकता की आड़ में जनता को बेवकूफ बना कर एक बार फिर से सत्ता में आना चाहती है। उन्होंने यह भी कहा कि वो साबरमती पहली बार आयी हैं। उन्होंने जनता से सीधे जुड़ने का प्रयास किया।
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बिना मोदी का नाम लिये तीखे हमले करते हुए भ्रष्ट और चोर तक कहा। उन्होंने आगे कहा कि मोदी जी ने पिछले पांच सालों में सिर्फ अपने धनी मित्रों को फायदे पहुंचाने का काम किया है। आम आदमी की उन्हें कोई फिक्र नहीं है। राहुल गांधी ने कहा यदि उनकी सरकार केन्द्र में बनती है तो सबसे पहले वो किसानों के कर्ज माफी के लिये कदम उठायेगी। जीएसटी में बदलाव कर एक नयी कर प्रणाली को लागू करेगी। नयी प्रणाली में वो सब बदलाव करेगी जिससे व्यापारियों को कर भुगतान करने सुविधा व सहजता हो। माजूदा जीएसटी की पांच प्रक्रियाओं के बजाये सिंगल जीएसटी रेट का रूप देगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here