Cricketers-Turned-Politicians
Above Cricketers are making their career in Politics after leaving Play ground

नयी दिल्ली। आज के समय में राजनीति के अखाड़े सबका स्वागत होता है। यह अंदाजा इस बात से लगता है कि इसमें फिल्मी कलाकारों के साथ आईपीएस और आईएएस भी जनप्रतिनिधि बनने को आ रहे हैं। सबसे बड़ी बात तो यह है कि क्रिकेट जगत के नामचीन खिलाड़ियों ने भी यहां किस्मत आजमाई है। कुछ ने तो खेली लंबी पारी और कुछ गुमनामी के अंधेरे में खो गये हैं।केरल से आने वाले तेज गेंदबाज ने बीजेपी का दामन छोड़ कांग्रेस का दामन थाम लिया है। यह संभावना जतायी जा रही है कि कांग्रेस के टिकट पर उन्हें केरल से चुनाव भी लड़ाया जा सकता है। कांग्रेस में लाने लाने में कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने अहम् भूमिका निभाई। इससे पहले क्रिकेटर गौतम गंभीर ने भाजपा पार्टी की सदस्यता ली है। उनको भाजपा में शामिल कराने में अरुण जेटली का हाथ बताया जा रहा है। भाजपा गंभीर को दिल्ली से चुनाव लड़वा सकती है।

भारतीय राजनीति में उतरने वाले दो नाम काफी चर्चा में रहे हैं। पहला नाम नवजोत सिंह सिद्धू और कीर्ति आजाद दोनों ही भाजपा के टिकट पर सांसद बने। इत्तेफाक से दोनों ने ही कांग्रेस के टिकट पर आम चुनाव लड़ने जा रहे हैं। इसी तर्ज पर सीनियर क्रिकेटर चेतन चैहान भी भाजपा के टिकट पर amroha से सांसद बने चुक हैं। वर्तमान मे वो यूपी की योगी सरकार में मंत्री है। पूर्व भारतीय क्रिकेट कप्तान अजहरुद्दीन भी कांग्रेस के क्रिकेट पर सांसद बने। 2014 के आम चुनाव में क्रिकेटर मो. कैफ ने कांग्रेस के टिकट पर इलाहाबाद से चुनाव लड़ा था लेकिन मतदाताओं ने उन्हें नकार दिया। इसके बाद से वो सक्रिय राजनीति से गायब हो गये। पार्टी की गतिविधियों मे उनकी शिरकत नहीं देखी गयी।
सक्रिय राजनीति में नवजोत सिंह सिद्धू और कीर्ति आजाद ही सक्रिय हैं। पिछले 15 साल से कीर्ति आजाद बीजेपी की टिकट पर संसद सदस्य बने हुए है। वहीं नवजोत सिंह भी भाजपा के टिकट पर सांसद बन चुके है। लेकिन दोनों ही भाजपा सांसद बीजेपी में अपनी कदर न होने पर इतने ज्यादा नाराज हुए कि पार्टी के नेताओं पर हमलावर हो गये। आखिरकार आजाद को पार्टी ने निलंबित किया और सिद्धू ने पार्टी से किनारा कर लिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here