सेंसेक्स की शीर्ष 10 में से 8 कंपनियों का मार्केट कैप 2.50 लाख करोड़ रुपये घटा, रिलायंस- भारती एयरटेल के कैप में हुई वृद्धी

पिछले सप्ताह के दौरान शीर्ष 10 कंपनियों में सिर्फ रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड और भारती एयरटेल के मार्केट कैप में वृद्धि दर्ज की गई.

नई दिल्ली: सेंसेक्स की शीर्ष 10 में से आठ कंपनियों का बाजार पूंजीकरण (मार्केट कैप) पिछले सप्ताह 2,50,825.28 करोड़ रुपये घट गया. टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (टीसीएस), एचडीएफसी और एचडीएफसी बैंक सर्वाधिक नुकसान उठाने वाली कंपनियां रहीं. पिछले सप्ताह के दौरान शीर्ष 10 कंपनियों में सिर्फ रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड और भारती एयरटेल के मार्केट कैप में वृद्धि दर्ज की गई.

बीते सप्ताह के दौरान टीसीएस का मार्केट कैप सर्वाधिक 45,535.19 करोड़ रुपये कम होकर 7,10,514.04 करोड़ रुपये पर आ गया. इसके अलावा एचडीएफसी बैंक का मार्केट कैप 39,923.11 करोड़ रुपये घटकर 5,09,430.95 करोड़ रुपये और एचडीएफसी की बाजार हैसियत 39,386.76 करोड़ रुपये कम होकर 2,92,664.08 करोड़ रुपये पर आ गई.

इस दौरान आईटीसी का बाजार मूल्यांकन 29,316.97 करोड़ रुपये की गिरावट के साथ 1,94,586.02 करोड़ रुपये पर आ गया. आईसीआईसीआई बैंक का मार्केट कैप 27,288.27 करोड़ रुपये गिरकर 2,18,670.85 करोड़ रुपये, कोटक महिंद्रा बैंक का मार्केट कैप 26,457.32 करोड़ रुपये लुढ़ककर 2,33,132.42 करोड़ रुपये, हिंदुस्तान यूनिलीवर लिमिटेड का बाजार मूल्यांकन 25,221.54 करोड़ रुपये के नुकसान के साथ 4,90,651.15 करोड़ रुपये और इन्फोसिस का बाजार मूल्यांकन 17,696.12 करोड़ रुपये कम होकर 2,87,332.93 करोड़ रुपये पर आ गया.

हालांकि, इस दौरान रिलायंस इंडस्ट्रीज का बाजार पूंजीकरण 60,081.83 करोड़ रुपये बढ़कर 9,90,088.02 करोड़ रुपये और भारती एयरटेल का बाजार पूंजीकरण 8,537.95 करोड़ रुपये की बढ़त के साथ 2,89,144.54 करोड़ रुपये पर पहुंच गया.

बीते सप्ताह मार्केट कैप के लिहाज से रिलायंस इंडस्ट्रीज शीर्ष पर रही. इसके बाद क्रमश: टीसीएस, एचडीएफसी बैंक, हिंदुस्तान यूनिलीवर लिमिटेड, एचडीएफसी, एयरटेल, इन्फोसिस, कोटक महिंद्रा बैंक, आईसीआईसीआई बैंक और आईटीसी का स्थान रहा. पिछले सप्ताह के दौरान बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 2,074.92 अंक यानी 6.15 प्रतिशत के नुकसान में रहा.

ये भी पढ़ें

लॉकडाउन का असर: देश में फ्यूल की मांग 46% हुई कम, 2007 के बाद सबसे कम खपत

Covid 19: उद्योग जगत की सरकार से मांग, 12 घंटे हो वर्किंग आवर, 2-3 साल के लिए स्थगित हो श्रम कानून

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here